CTET Syllabus and Full Details Hindi

CTET

(Central Teacher Eligibility Test)

 

CTET Hindi Notes: केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा 2023 (CTET Notes in Hindi 2023) शिक्षकों के लिए एक राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षा हो सकती है। भारत में सरकारी संकायों में शिक्षण नौकरियों के लिए CTET 2023 आवश्यक है। CTET 2023 के योग्य बनने के लिए उम्मीदवार को 60% की आवश्यकता होती है और प्रमाण पत्र सात वर्षों की अवधि के लिए वैध होता है

लेकिन अब एक बार ctet पास करने पर Lifetime वैधता रहेंगी ।

CTET को लागू करने के पीछे का कारण है: यह भर्ती प्रक्रिया के भीतर शिक्षक गुणवत्ता के राष्ट्रीय मानकों और बेंचमार्क ला सकता है; यह शिक्षक शिक्षा प्रतिष्ठानों और छात्रों को इन प्रतिष्ठानों से अपने प्रदर्शन मानक को और बेहतर बनाने के लिए प्रेरित कर सकता है; यह सभी हितधारकों को सकारात्मक संकेत भेज सकता है कि सरकार शिक्षक गुणवत्ता पर विशेष जोर देता है।

Ctet clear करना क्यों जरूरी है ।

यह उन सभी उम्मीदवारों के लिए आयोजित किया जाएगा जिनके पास कक्षा एक से आठवीं के लिए संकाय के भीतर एक शिक्षक के पद में शामिल होने की रुचि है। यह परीक्षा सफल उम्मीदवार को Kvs, Nvs, तिब्बती स्कूलों की तरह केंद्र सरकार के स्कूल में पढ़ाने में सक्षम बनाती है और सीटीई 2023 स्कोर को स्वीकार करने वाले वैकल्पिक संकाय भी। ऑन-लाइन मोड में सुलभ आवेदन।

 

 CTET Exam के लिए योग्यता

 

अभी तक हमने जाना कि CTET क्या होता है? इसका पुरा नाम क्या है और यह परीक्षा किसके द्वारा आयोजित की जाती है। अब हम जानेंगे कि इस परीक्षा में बैठने के लिए आपके पास क्या योग्यता होनी चाहिए तो आइये देखते हैं CTET परीक्षा के लिए योग्यता- जैसा कि आप लोग जानते हैं कि इसमें 2 पेपर होते हैं अब हम यहां इन दोनों पेपर के लिए आवश्यक योग्यता के बारे में जानेंगे।

 

पेपर-I

इस पेपर के द्वारा आप कक्षा 1- 5वीं तक के teacher बन सकते हैं।

 

पहले पेपर की परीक्षा देने के लिए आप को किसी मान्यता प्राप्त board से  किसी भी विषय (arts, science, commerce ) में बारहवीं कक्षा कम से कम 60℅ अंकों से पास करनी होती है।

12वीं के साथ-साथ आपको किसी मान्यता प्राप्त इंस्टीट्यूट से DEd (diploma in education) का कोर्स करना होता है।

 

और इसके साथ ही आपको अच्छे मार्क्स  लाना भी जरूरी होता है।

CTET EXAM L1 Subject and Question

1. शिक्षा मनोविज्ञान ——-. 30 Question

2 गणित 30 Question

3.पर्यावरण अध्ययन 30 Question

4.Hindi / sanskrit/ English ( language first ) 30 Question

5.English/sanskrit /Hindi (language second) 30 Question

 

 

पेपर-II

इस पेपर के द्वारा आप कक्षा 6 से 8वीं तक के शिक्षक बन सकते हैं।

 

दूसरे पेपर की परीक्षा देने के लिए आपको 12वीं क्लास किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 60% अंकों के साथ पास करनी होती है।

 

इसके साथ ही आपको किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी या कॉलेज से किसी भी विषय में ग्रेजुएशन की डिग्री 50% अंकों के साथ पास करनी होती है।

 

ग्रेजुएशन के साथ आपको B.Ed कोर्स करना जरूरी होता है तभी आप दूसरे की परीक्षा दे सकते हैं।

 

ग्रेजुएशन और B.Ed करने वाले उम्मीदवारों duno level की परीक्षा दे सकते हैं।

CTET EXAM L1 Subject and Question

1. शिक्षा मनोविज्ञान ——-. 30 Question

2 गणित विज्ञान / सामाजिक 60 Question

3.Hindi / English/sanskrit ( language first ) 30 Question

4 .English / hindi/sanskrit (language second) 30 Question

 

सीटेट परीक्षा के बाद करियर विकल्प

 

सीटेट के बाद करियर विकल्प की लिस्ट दी गई है-

1. CTET परीक्षा देने के बाद आप किसी भी प्राइवेट या फिर           सीबीएसई बोर्ड के स्कूलों में प्राइमरी शिक्षक के लिए आवेदन कर सकते हैं।

2. CTET परीक्षा देने के बाद आप किसी भी प्राइवेट या फिर सीबीएसई बोर्ड के स्कूलों में प्राइमरी शिक्षक के लिए आवेदन कर सकते हैं।

3. CTET परीक्षा देने के बाद आप किसी भी प्राइवेट या फिर सीबीएसई बोर्ड के स्कूलों में प्राइमरी शिक्षक के लिए आवेदन कर सकते हैं

इस सेक्शन के तीन सबसेक्शन हैं जिसमें 30 प्रश्नों में 15 प्रश्न बाल विकास से, 5 प्रश्न स्पेशल नीड्स ऑफ चिल्ड्रन से व शेष 10 प्रश्न शिक्षा शास्त्र से पूछे जाते हैं। आइए जानते हैं इन तीनों भागों के बारे में-

जो विद्यार्थी पेपर 1 देने की तैयारी कर रहे हैं उन विद्यार्थियों के लिए यहां संक्षेप में पूछे जाने वाले प्रश्नों की रूपरेखा को बताया गया है-

 

Ctet का syllabus (क्या क्या आता है exam में)

बाल विकास:

इस भाग को हल करने के लिए छात्रों को बच्चों के विकास से जुड़े हर बिंदु पर ध्यान देना चाहिए।

बाल विकास के प्रिंसिपल से लेकर उनके संपूर्ण सर्वांगीण विकास सारे प्रमुख कॉन्सेप्ट आपको याद होने चाहिए।

दूसरे शब्दों में कहे तो इस भाग में कॉन्सेप्ट, विचार, सिद्धांत से जुड़े प्रश्न पूछे जाएंगे।

आप सभी बच्चों को लेकर एक साथ कैसे चलते हैं व विशेष आवश्यकता वाले छात्रों पर उसी क्लासरूम में कैसे ध्यान देते हैं।

 

शिक्षाशास्त्र:

इस प्रकार के प्रश्न क्लास रूम के माहौल को मध्यनाज़र में रखकर बनाए जाते हैं। इन प्रश्नो के उत्तर देने के लिए  आपको क्लास रूम की आवश्यकताओं को ध्यान में रखना होगा।

बच्चे कैसे सोचते हैं एवं कैसे सीखते हैं?

बच्चा समस्या समाधानकर्ता के रूप मे।

शिक्षा से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य।

शिक्षा एवं संविधान ।

शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009

प्रमुख शिक्षण विधियां।

भारतीय शिक्षा का इतिहास।

 

विशिष्ट आवश्यकता वाले बच्चे:

समावेशी शिक्षा

अधिगम अक्षमता

सृजनात्मक बालक

प्रतिभाशाली बालक

मंदबुद्धि बालकों की शिक्षा

विशेष आवश्यकता वाले बालकों की सहायता हेतु आसान तरीके

 

वे विद्यार्थी जो सीटेट परीक्षा पेपर-2  के लिए तैयारी कर रहे हैं  उनके लिए भी विषय समान होते हैं लेकिन इन विषय में आने वाले topic में कुछ और topic add कर दिये जाते हैं। आइये देखते हैं

 

बाल विकास:

विकास का प्रत्यय एवं अधिगम से संबंध

बाल विकास के सिद्धांत

वंशानुक्रम और वातावरण

समाजीकरण की प्रक्रिया

वृद्धि एवं विकास के सिद्धांतों का शैक्षिक महत्व

बाल केंद्रित एवं प्रगतिशील शिक्षण।

बुद्धि का प्रत्यय ।

परीक्षणों के प्रकार।

भाषा एवं बचपन में भाषा के विकास की विशेषताएं।

किशोरावस्था से पूर्व भाषा की विशेषताएं।

भाषा विकास को प्रभावित करने वाले तत्व।

समाज निर्माण एवं लैंगिक मुद्दे ।

व्यक्तिगत विभिन्नता आकलन, मूल्यांकन, सतत एवं व्यापक मूल्यांकन।

 

विशिष्ट आवश्यकता वाले बच्चे एवं समावेशी शिक्षा की अवधारणा:

अधिगम अक्षमता।

समावेशी शिक्षा।

प्रतिभाशाली बालक।

मंदबुद्धि बालक।

सृजनात्मक बालक।

मंदबुद्धि बालकों की शिक्षा।

शारीरिक दृष्टि से विकलांग समस्या वाले बालक।

 

शिक्षण शास्त्र एवं अधिगम:

बच्चे कैसे सोचते वह सीखते हैं?

शिक्षण की प्रमुख विधियां।

एक बालक समस्या समाधानकर्ता के रूप में।

अभिप्रेरणा अधिगम को प्रभावित करने वाले कारक।

शिक्षा से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य।

शिक्षा एवं संविधान।

भारतीय शिक्षा का इतिहास।

शिक्षा अधिकार अधिनियम 2009

 

 

 

CTET Notes In Hindi

यदि हम CTET अध्ययन सामग्री के बारे में बात करते हैं तो आपको कक्षा 1 और कक्षा 2 के CTET अध्ययन सामग्री की आवश्यकता हो सकती है। CTET का मतलब केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा है। जब CTET की तैयारी करने की बात आती है, तो आपको शिक्षा मनोविज्ञान के लिए CTET अध्ययन सामग्री के बारे में अध्ययन करना होगा जो इस विषय को तैयार करने में मदद करते हैं। CTET के लिए CTET तैयार करने का एक सबसे अच्छा तरीका है।

Leave a Comment